पानी पीने की कला

Back to All Articles

पानी पीने की कला

यदि एक तरफ खाना खाने की कला है तो उसी तरहपानी पीने की कला भी है। मानव शरीर 70 से 80 अरब कोशिकाओं से बने होते हैं और इन कोशिकाओं में से 75 से 80 प्रतिशत पानी से बने होते हैं। उन्हें पानी की आवश्यकता होती है – चयापचय (मेटबॉलिक) गतिविधि के लिए, एक मजबूत प्रतिरक्षा के लिए, वजन घटाने के लिए, सेलुलर समारोह के लिए। और जिस तरह से हम पानी पीते हैं वह अत्यंत महत्वपूर्ण है। क्योंकि पानी पीना भी एक कला है।
पानी हमेशा बैठ कर धीरे धीरे पीना चाहिए :

जब आप पानी घूंट- घूंट करके पीते हैं, तो आपका थूक पानी के साथ मिल जाता है। आपका थूक प्रकृतिक रूप से आल्कलाइन होता है, और आपका पेट प्रकृतिक रूप से असीडिक होता है क्योंकि आपके पेट में भोजन को पचाने के लिए एक निश्चित मात्रा में एसिड की आवश्यकता होती है, लेकिन समस्या यह है कि जब अत्यधिक भोजन या खराब गुणवत्ता वाले भोजन को पचाने के लिए बहुत अधिक एसिड पैदा होता है। तो ऐसे मे हमारी लार (थूक) हमारे पेट मे जा कर अतिरिक्त एसिड को स्थिर करता है। इसी तरह यदि आप घूँट घूँट करके पानी पीते हैं तो यह आपके पेट मे अतिरिक्त एसिड को स्थिर करने मे मदद करता है।

खाने के पहले ओर बाद मे पानी पीने के कला:
हमेशा खाने के 15-30 मिनट पहले ओर बाद मे गुनगुना पानी या कमरे का तापमान वाला पानी पीना चाहिए। यदि फिर भी आपको खाने के समय पानी पीने की कमी महसूस हो तो बहुत ही कम मात्रा मे पानी पिएं। आपको खाने के समय बहुत अधिक या बड़े बड़े घूँट पानी के नही पीने चाहिए क्योंकि पाचन गतिविधि के लिए आपके पेट में पर्याप्त जगह होनी चाहिए अन्यथा पानी आपके पाचन एसिड को पतला कर देगा जो आपके पाचन को प्रभावित करेगा।

प्यास लगते ही पानी पिएं। बहुत प्यास लगने का इंतजार ना करें।
मानव शरीर में एक रक्षा तंत्र और एक चेतावनी तंत्र है। यह हमें संकेत देता है कि जब हम भूखे होते हैं। अगर हम वास्तव में हमारे शरीर को सुनते हैं तो यह हमें तब भी संकेत देता है जब हम प्यासे होते हैं। तो हम अपने शरीर को सुनना चाहिए ओर संकेत मिलते ही पानी पीना चाहिए।अब यदि आप एक वातानुकूलित वातावरण में हैं तो आपको थोड़ी सावधानी बरतनी चाहिए क्योंकि कभी-कभी आपको उस वातानुकूलित तापमान के कारण संकेत नहीं मिलते, जिसे आप प्यासे रह जाएंगे और आप निर्जलीकरण का शिकार हो सकते हैं।तो आपके पास दो अन्य संकेतक हैं, यदि आपके होंठ जल्दी सूख जाते हैं तो इसका मतलब यह हो सकता है कि आप पानी के निम्न स्तर पर हैं और आपको तुरंत हाइड्रेट करने की आवश्यकता है और दूसरी टिप आपके मूत्र के रंग को देख कर पता चलता है। जब आपका मूत्र एक पीला सफेद होता है, क्रिस्टल सफेद या निम्न पीला होता है तो इसका मतलब है कि आपके शरीर में पर्याप्त पानी है। लेकिन ध्यान दें कि कुछ दवाएं और विटामिन सी जैसे कुछ विटामिन आपके मूत्र को बहुत गहरे रंग का बना सकते हैं, इसलिए इन संकेतकों का उपयोग करें और साथ ही साथ अपने शरीर को सुनें, आप आज पूरे सिग्नल को जानते हैं और तदनुसार मात्रा में पानी का सेवन करें ओर इसका प्रयास करें।

कभी पानी को गटक कर ना पिएं 
कभी पानी को गटक कर ना पिएं क्योंकि जब हम इस तरह पानी का सेवन जल्दी जल्दी करते हैं तो अधिकांश पानी आपके सिस्टम मे अवशोषित होने की बजाए बाहर निकल जाता हैं। हम अच्छे सेलुलर चयापचय (metabolism) और अच्छी सेलुलर ऊर्जा और गतिविधि के लिए क्या चाहिए, कि पानी हमारे कोशिकाओं में  पूरी तरह से अवशोषित हो, और ये तभी हायेगा जब हम घूँट घूँट करके पानी पिएँगे। जब आप जल्दी जल्दी पानी पीते हैं तो अधिकांश पानी आपके सिस्टम मे अवशोषित होने की बजाए बाहर निकल जाता है जिससे आपको और प्यास लगती है, जब आप धीरे-धीरे पानी पीते हैं तो आपको पता चलेगा कि आपको बहुत अधिक पानी की आवश्यकता नहीं है। आम दिनचर्या मे तीन लीटर या ढाई लीटर पानी की पारंपरिक सलाह दी जाती है। यह वास्तव में आपकी जीवनशैली पर निर्भर करता है कि किस तरह से आप पानी का सेवन करते हैं और किस तरह का खाने चयन करते हैं। जब आपका आहार फल और सब्जियों में समृद्ध होता है, जोकि पानी की मात्रा में अधिक होती हैं, तो आपको उन माध्यमों से भी पानी मिलता है। उसी समय जब आप बहुत अधिक चाय और कॉफी पीते हैं तो ये शरीर में मूत्रवर्धक होते हैं। यह आपके शरीर से अतिरिक्त पानी और विटामिन को बहा ले जाता है। तो कॉफी के हर एक गिलास की कमी को पूरा करने के लिए आपको दो गिलास पानी पीने की आवश्यकता है। स्नान करने से पहले एक ग्लास पानी पीने से आपके शरीर मे खून का दबाव समंत्रित हो जाता है।

चुस्की लेते हुए वजन कम करना:
यदि आप वजन कम करना चाहते हैं तो धीरे धीरे पानी का सेवन करें जैसा कि मैने उपर बताया है। क्योंकि जब आप इसे धीरे-धीरे पानी पीते हैं तो आप अपने पाचन क्रिया को उत्साहित करते हैं ओर सही मात्रा में ऊर्जा का उपयोग करने मे सहयता करते हैं। आज हम जो ग़लत या अतिरिक्त खाना खाते हैं उसे पाचाने मे ही हमारी शरीर की सारी ताक़त ख़तम हो जाती है। तो यदि आप अपने शरीर की उर्जा को सही जगह ईस्तमाल करना चाहते हैं (FAT को गलाने के लिए) तो पानी को घूँट घूँट करके पिएं ओर अपने पाचन क्रिया को सही उर्जा ईस्तमाल करने मे सहयोग करें।

तो जैसे खाना खाने की एक कला होती है उसी तरह पानी पीने की भी एक कला होती है।आज समय के अभाव के कारण हर कोई, यहाँ तक कि मैं खुद पानी को बोतल हमेशा अपने साथ रखता हूँ ओर एक घूँट मे पानी का सेवन करता हूँ।लेकिन चलिए कोशिश करें ओर हम सब घूँट घूँट करे धीरे धीरे पानी पिएं। यदि हमारे पास बैठ कर पानी पीने का अवसर नही है तो घूँट घूँट करके धीरे धीरे पिएं ताकि पानी आपकी थूक (saliva) के साथ मिल कर आपके पेट मे जाए और आप देखें कि कैसे सूजन, पेट फूलना और अपचन में सुधार होता है।

From a pimple to cancer, our You Care Wellness Program helps you find a way


Talk to our integrative team of experts today 


18001020253 

info@lukecoutinho.com 

Share this post

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to All Articles