हार्मोनल असंतुलन और स्वाभाविक रूप से उन्हें संतुलित कैसे करें

Back to All Articles
birth control pills

हार्मोनल असंतुलन और स्वाभाविक रूप से उन्हें संतुलित कैसे करें

लगभग हर तरीके की बीमारियाँ , वज़न बढ़ना, वज़न कम होना या हर चिकित्सा स्तिथियो में हार्मोन का सीधा संबंध मानव शारी से होता है। हर्मोन्स का संतुलन शरीर में स्वास्थ्य को बनाए रखने का सही तरीका है और इसके असंतुलन से असंख्य समस्याएं ( दिमागी असंतुलन से लेकर  शारीरिक आपदा ) पैदा होती हैं।

हार्मोन कैसे काम करते हैं
एस्ट्रोजेन, टेस्टोस्टेरोन, एड्रेनालाईन, इंसुलिन हार्मोन हैं। हार्मोन्स के असंतुलन का इलाज करने के लिए, हमें यह समझने की जरूरत है कि हार्मोन कैसे काम करते है। सभी हार्मोन, ग्रंथियां और अंग जो उन्हें एक साथ उत्पन्न करते हैं, आपकी एनडोक्राइन प्रणाली को बनाते हैं। आपकी एंडोक्राइन प्रणाली आपके हार्मोन को स्वास्थ्य रखने का हर संभव प्रयास करती है। यह प्रणाली मानव शरीर में  हार्मोन्स के काम करने के तरीके को नियंत्रित करती है। जब, आपका शरीर बहुत सारे हार्मोन्स का उत्पादन करता है या बहुत कम या फिर आपके शरीर मे हार्मोन्स का असंतुलन है – यही वह समय है जब मानव शरीर में समस्याएं उत्पन्न होती हैं। थायरॉइड ग्रंथि के इलाज के लिए हमारे पास कई तरीके उप्लभ्द हैं जैसे की – हार्मोन रीप्लेस्मेंट थेरेपी और जन्म नियंत्रण गोलियां, इंसुलिन और थायरोक्साइन। ये तब तक ठीक हैं जब तक हम इसे एक बैसाखी के रूप में उपयोग करते हैं, अगर हम इन तरीकों पर अपनी पूरी जिंदगी के लिए निर्भर हो जाएँ तो ये तरीके आपको बेहतर बनाने के बजाय आपकी जीवन शैली को और बदतर बना देते हैं।
हार्मोनल असंतुलन के लक्षण?
लक्षण बहुत स्पष्ट हैं क्योंकि हमारा मानव शरीर हर समय हमें  किसी ना किसी माध्यम से इन लक्षणों  के बारे मे संदेश देता रहता है। कुछ लक्षण बांझपन, अनियमित मासिक धर्म, डिप्रेशन, और चिंता हैं क्योंकि इसमें आपको खुश और शांत रखने के लिए हार्मोन्स पूरी तरह से शामिल होते हैं। अत्यधिक वजन का बढ़ाना या वजन कम करने में असमर्थता हार्मोनल असंतुलन का स्पष्ट संकेत है। लगातार थकान आजकल लोगों के बीच बहुत आम है। सुबह उठने के लिए हर किसी को एक कप कॉफी की ज़रूरत होती  है – और अगर आप भी उनमे से एक हैं तो आप भी हार्मोन्स के असंतुलन के शिकार हैं। बहुत से लोग अनिद्रा से पीड़ित हैं जो एक नींद विकार है, कम कामेच्छा, कम सेक्स ड्राइव, पाचन क्रिया मे असंतुलन (पेट की गैस, पेट मे सूजन या पेट का फूलना) – यह सभी हार्मोन्स के असंतुलन के कारण है। और अगर हम बलों की बात करें तो
बालों का झड़ना, बलों का पतला होना जिसके लिए हम त्वचा विशेषज्ञों, त्वचा के डॉक्टरों और बालों के डॉक्टरों से मदद लेने के बारे में सोचते हैं। वे काफ़ी मददगार हो सकते हैं लेकिन वे आपकी समस्या को हमेशा के लिए ठीक नहीं कर सकते हैं। वे सिर्फ आपके लक्षणो का इलाज करते हैं परंतु यदि आपको हमेशा के लिए अपनी बीमारियों से निज़ाद पाना है तो आपको अपने हमोन्स के संतुलन को वापस से ठीक करना होगा, और आपकी सभी परेशानियाँ दूर हो जाएँगी।
मधुमेह के मामले में मधुमेह में शामिल हार्मोन इंसुलिन है। आपके पैनक्रिया या तो इंसुलिन की सही मात्रा का उत्पादन नहीं कर रहे हैं या आपकी कोशिकाएं इंसुलिन का सही तरीके से उपयोग नहीं कर रही हैं। यह कोशिकाओं के बीच संचार की कमी से है। मानव शरीर में 50 ट्रिलियन कोशिकाओं के अलावा, गलत संचार में अनगिनत समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं जैसे की एड्रेनल थकान, चिंता और हम जिस भी तनाव से हर दिन से गुजरते हैं, वह हमारे एड्रेनल ग्रंथियों से  लगातार कोर्टिसोल का उत्पादन करता रहता हैं जो की  फिर से एक हार्मोन है। जब कोर्टिसोल का स्तर थायरोक्साइन के स्तर से ऊपर हो जाता है, डी एच ई ए और टेस्टोस्टेरोन का स्तर नीचे आ जाता है। एक हार्मोन के स्तर के ऊपर जाते ही, दूसरे पांच, छह या सात हार्मोंस का स्तर नीचे आ जाता हैं। यही कारण है कि तनाव हमारे लिए इतना खतरनाक है और फिर भी हम मानते हैं कि मानव दिमाग को सांत्वना देने का रास्ता मिल ही जाता है। लेकिन आप अपने सभी स्तिथियो को संभाल सकते है केवल अपने तनाव को सही तरीके से संतुलित करके।
हार्मोनल असंतुलन के कारण:
1.) फुड एलर्जी : आज लोगों को बहुत अधिक चीनी, जंक फूड, धूम्रपान, शराब, प्रदूषण और दूषित भोजन के साथ खराब जीवनशैली के कारण जहरीले, धीमी और आलसी लीवर है, जिसे हम यूँ भी कह सकते हैं की उपरोक्त कारणों के चलते हमारा लीवर बहुत ही खराब हो गया है।आम तौर पर फैटी लीवर उन लोगों में था जो शराब पीते थे या जो शाकाहारियों थे। परंतु अब आप जैन समुदाय और शाकाहारियों में भी फैटी लीवर वाले लोगों को आसानी से ढूंड सकते हैं जिससे आप आजकल की जीवन शैली का अंदाज़ा लगा सकते हैं। हर बार जब आप बाहर खाना खाते हैं, रेस्तरां में या सड़क पर या कहीं भी, खाने को आकर्षक बनाने के लिए उसमे काफ़ी मात्रा मे रंग डाला जाता है जो की सेहत के लिए बहुत ही खराब है। मैं आपको बाहर का खाना खाने के लिए रोक नहीं रहा हूं, लेकिन मैं आपको यह बताने की कोशिश कर रहा हूं कि यदि आपके शरीर मे हार्मोन्स का असंतुलन है, तो अपने बाहरी खाने को कम से कम खाएँ – यह आपके शारीरिक हार्मोन्स को संतुलन मे वापस लाने का पहला कदम होगा। अलग अलग खानो में 50 से 60 अलग अलग रंगों का उपयोग किया जाता है। उनमें से आधों का सीधा सम्बंध हार्मोन्स के असंतुलन से है और यहां तक कि कैंसर से भी। इनमें से कोई भी विनियमित नहीं है। वह हरा पलक पनीर जो आप सोच रहे हैं कि वास्तव में हरा है तो घर पर पलक पनीर बनाने का प्रयास करें और आप देखेंगे कि आपका पालक पनीर उतना हरा नही है जितना आपको किसी रेस्तरां में मिलता है, क्योंकि उसमे हरा रंग मिलाया होता है। इन खाने के रंगों में अंततः कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगों में एलर्जी होती है और पहली चीज जो प्रभावित होती है वह आपके हार्मोन होते हैं, जिससे आपके शरीर को असंख्य प्रभाव झेलने पड़ सकते हैं।
2.) अस्वास्थ्य आंत: कब्ज, अम्लता, पेट फूलना, थायराइड रोग और ल्यूपस, त्वचा रोग, एक्जिमा, सोरायसिस और कई अन्य जैसे ऑटोम्यून्यून विकार के चलते आज कल लोगों की आंत का स्वास्थ अच्छा नही है। इसका मतलब है कि आपके पास एक लीकी आंत है जो आईबीएस है। जब आपके पास एक लीकी आंत हो, तो आपके गलत रक्त अणु आपके रक्त प्रवाह में जा रहे हैं जहां उन्हें कभी नहीं होना चाहिए और यही वह समय है जब आपकी इम्यूनिटी प्रणाली भ्रमित होकर अपने ही शरीर पर हमला शुरू कर देती है और हमारे शरीर मे हार्मोन्स का असंतुलन हो जाता है जिससे फिर हमें आवश्यकता होती है थायरोक्साइन, इंसुलिन और अन्य सभी चीजें।
3.) कब्ज : यह हार्मोन्स के असंतुलित होने के मुख्य कारणों में से एक है। यदि आपको कब्ज हैं तो मल त्यागने मे दवाइयाँ आपकी मदद कर सकती हैं, परंतु इसे अपनी जीवन शैली का एक तरीका न बनाएं। ऐसे कई लोग हैं जो सुबह में अच्छे तरीके से मल को त्यागने के लिए हर रात लक्सेटिव दावा लेते हैं। ऐसा करने से आप अपने आप को बहुत खतरे में डाल रहे हैं क्योंकि एक समय ऐसे आएगा कि आप अपनी मांसपेशियों पर से नियंत्रण खो देंगे और आप बिना लॅक्सेटिव को खाए पेट सॉफ करने नही जा पाएंगे। लॅक्सेटिव दवा के सेवन के साथ आप अपने सिस्टम से बहुत से स्वस्थ बैक्टीरिया, लवण, इलेक्ट्रोलाइट और पानी को भी बाहर निकाल रहे हैं। इन दवाओं के सेवन को छोड़ कर हमे समस्या के मूल कारण पर काम करने की आवस्यकता है। कब्ज के साथ रहना सचमुच आपके लिए बहुत खतरनाक है।खासकर महिलाओं में, जब आपको कब्ज  होता है तो सभी एस्ट्रोजन वापस अपने कोलन से होकर आपके सिस्टम मे, लीवर मे, और कोशिकाओं मे आ जाता है जिससे आप एस्ट्रोजेन के प्रभाव का एक चक्र बना रहे हैं। यही कारण है कि कैंसर वाले लोगों को विशेष रूप से कभी कब्ज नहीं होना चाहिए और उन्हें कब्ज से छुटकारा पाने के लिए खाने पीने मे बदलाव और जीवनशैली में परिवर्तन करने के लिए जो भी करना हो, वह करना चाहिए, अन्यथा यह सही में आपको बीमार कर देगा, इससे कोई फर्क नहीं पड़ेगा कि आप दुनिया के बड़े से बड़े अस्पताल में हैं और एक उम्दा उपचार करवा रहे है।
4.) अतिरिक्त शारीरिक चर्बी: यदि आपके पेट के क्षेत्र में अत्यधिक शारीरिक चर्बी है तो यह स्पष्ट है कि आपके शरीर मे हार्मोन्स का असंतुलन है। इसका मतलब यह भी हो सकता है कि आप आलसी, अनुशासित हैं और उन सभी चीजों को खाते हैं जो आपकी सेहत पर ग़लत प्रभाव डालते हैं, लेकिन इससे आपको यह भी पता चलता है कि आपके पेट के क्षेत्र में आपके कोशिकाओं मे हार्मोन्स का असंतुलन है जो कि आपके पेट पर चर्बी को अधिक जमा होने मे मदद करती है।
5.) सूजन: बहुत से लोगों को सूजन की समस्या होती है जिसका मूल कारण जेनेटिक्स ना हो कर शरीर मे हार्मोन्स का असंतुलन होता है। बेशक, चाहे ये एक छोटा सा हिस्सा हो पर हम इसे एक बहाना के रूप में उपयोग नहीं कर सकते क्योंकि हम सभी के पास अच्छे जीन्स और बुरे जीन्स हैं लेकिन शरीर को ज्यादातर मामलों में खराब जीन्स को सक्रिय होने के लिए एक ट्रिगर की आवश्यकता होती है और कुछ दुर्भाग्यपूर्ण लोग हैं जिनके जीन्स इस मामले मे एक बड़ी भूमिका निभाते हैं।
6.) विषाक्तता: हमारे द्वारा खाए जाने वाले भोजन से विषाक्तता, प्रदूषित पानी जिसे हम पीते हैं, सभी जंक फूड, बाहरी भोजन हमें अधिक से अधिक विषाक्त बनाता है और इसके कारण आपकी कोशिकाएं एक दूसरे के साथ संवाद करना बंद कर देती हैं। आपकी कोशिकाएं सही तरीके से संवाद नहीं कर पाती हैं जिसके कारण आपके शरीर मे हार्मोन्स का असंतुलन हो जाता है और आप कई प्रकार की बीमारियों के शिकार हो जाते हैं।
7.) तनाव: यह एक तथ्य है कि तनाव कोर्टिसोल नामक हार्मोन को प्रभावित करता है जो कई अन्य हार्मोन्स को प्रभावित करता है, आपको चिंता और पुरानी तनाव के बीच एक सीधा लिंक नज़र आता है। तनाव हमारे लिए अच्छा होता है, जोकि हमे हमारे कार्य को पूर्ण करने के लिए प्ररित करता है, यह हमारे लिए अच्छा तनाव है। जो तनाव बढ़ता है और उसी स्तर पर स्थिर रहता है वह हमारे लिए खतरनाक है। इसका समाधान यह है कि हमे अपने खाने मे स्वस्थ वसा (fat) शामिल करना चाहिए, नाकि प्रतिबंधित आहार (restrictive diets) या कम-कार्बोहाइड्रेट, कम वसा (fat), तेल रहित खाना या कम से कम तेल का खाना लेना चाहिए।
हार्मोन बनाने के लिए आपको अपने शरीर में वसा की आवश्यकता होती है और यदि आपके पास कम वसा है तो आपके शरीर में हार्मोन की गलत संख्या होगी। हार्मोन स्वस्थ वसा द्वारा बनाए जाते हैं। घी, नारियल का तेल, अच्छी गुणवत्ता वाले मक्खन को नियंत्रित रूप मे, जैतून का तेल, अनरर्फाइंड तेल,  बादाम आदि और बीज सभी स्वस्थ वसा वाले होते हैं जो आपके शरीर के लिए हार्मोन्स बनाने का काम करते हैं और कोलेस्ट्रॉल भी बनाते हैं जो कि आपके मस्तिष्क, कोशिकाओं को सही तरीके से काम करने मे मदद करता है।
8.) जन्म नियंत्रण गोलियाँ: हार्मोनल असंतुलन के लिए जन्म नियंत्रण गोलियां भी एक प्रमुख कारण हैं। इन जन्म नियंत्रण गोलियों पर बहुत सी युवा लड़कियां और महिलाएं निर्भर करती हैं। इसका उपयोग अवांछित गर्भधारण को रोकने के लिए किया जाता है। आज हम कितनी ही युवा लड़कियों को पी सी ओ डी का शिकार देख सकते है। यदि ईमानदारी से कहूँ तो यह सहकर्मी दबाव, तनाव, नींद और उनके गतिहीन जीवन शैली – चार मुख्य कारण हैं कि महिलाएँ और युवा लड़कियाँ पीसीओडी की शिकार हो रही है। जन्म नियंत्रण गोली केवल एस्ट्रोजन बढ़ाती है
यह शायद आपको थोड़ा वजन कम करने और अपने चेहरे के कुछ मुहसों को हटाने के लिए मदद कर सकता है लेकिन यह भी बहुत ही नुक़सानदायक है। जन्म नियंत्रण गोलियों का सीधा संबंध महिलाओं के उदसीपन से है। फिर आप उसे एक मनोवैज्ञानिक या मनोचिकित्सक के पास ले जाते हैं जहाँ उसे अपनी मनोदशा के लिए एक और गोली मिलती है जोकि उसे जन्म नियंत्रण गोली खाने की वजह से हुई थी, जिसके परिणामस्वरूप उसे माइग्रेन और रक्तचाप की समस्याएं मिलती हैं। ऐसी कई महिलाएं हैं जिनके जन्म नियंत्रण गोलियों को छोड़ने के बाद उनका माइग्रेन बिल्कुल गायब हो गया  क्योंकि यह एक जन्म नियंत्रण गोली के दुष्प्रभावों में से एक है । इसके और भी कई दुष्प्रभाव है जैसे की सिरदर्द, उच्च रक्तचाप, वजन बढ़ाना, मूड स्विंग्स, पीठ दर्द और फिर हम इन दुष्प्रभावों को दूर करने के लिए उनका इलाज करने लगते हैं। इन सभी दुष्प्रभावों से निज़ाद पाने का एक ही तरीका है की अपनी जीवन शैली को बदले ओर जिंदगी मे स्वस्थ रहें ।
9) नींद की कमी: बच्चों और किशोरों के रूप में, हम सात या आठ घंटे तक सोते नहीं थे परंतु यदि हमारे पास कम नींद थी तो हमारे पास तनाव भी कम था। हमारे उपर हमारे साथियों का दबाव नही था की हमे स्कूलों में विश्वविद्यालयों, प्रतियोगिताओं और समाज में कैसे रहना है,
आधे किशोरों के पास वयस्कों की तुलना में उनके सामाजिक कैलेंडर अधिक हैं। नींद बहुत आवश्यक है चाहे वो बच्चे हों, व्यस्क हों या वरिष्ठ हों, यदि आप अपनी नींद सही तरीके से पूरी कर रहे हैं तो आपके हार्मोन्स अपने आप ही संतुलन मे आने लगेंगे।
हार्मोनल असंतुलन को कैसे ठीक करें
विटामिन डी 3 : हमें विटामिन डी 3 की आवश्यकता है जो हार्मोन के लिए अग्रदूत है। यदि आपके पास विटामिन डी 3 की कमी है तो आपके शरीर मे हार्मोन्स का असंतुलन है और लगभग दो लोगों में से एक जिन्हे मैं रोज़ाना मिलता हूं उनका विटामिन डी 3 का स्तर कम होता है। यह सिर्फ ऑस्टियोपोरोसिस या आपकी हड्डियों के बारे में नहीं है। यह आपके हार्मोन के बारे में है।इसलिए, यदि आपके पास विटामिन डी 3 की कमी है तो सब व्यर्थ है और आप
जो कुछ भी कर रहे हैं वह बेकार है क्योंकि आप अपने शरीर को वह आव्यशाक चीज़ नहीं दे रहे हैं जिसकी इसे बहुत ज़रूरत है हार्मोन बनाने के लिए। तो, हम इस हार्मोनल असंतुलन के बारे में भी नहीं करेंगे क्योंकि यदि आपके खाने में सही वसा नहीं है और यदि आपके पास विटामिन डी 3 नहीं है तो आपके पास सही हार्मोन नहीं है।
अडेपटोजन जड़ी बूटी : अश्वगंध जैसी चीजें जो हमारी सभ्यता में वर्षों से अस्तित्व में हैं। यह हमारे हार्मोन्स को स्वचालित रूप से संतुलित करती है, यही कारण है कि आयुर्वेद में इसका इतना महत्व है। पश्चिमी सभ्यता आज अपने हार्मोन्स को संतुलित करने के लिए भारत की सभ्यता के महत्वपूर्ण अंश अश्वगंध का उपयोग कर रहा है और दूसरी तरफ हम एंटीड्रिप्रेसेंट्स, नींद की गोलियां, अवसाद दवा, अधिक थायरॉक्सिन और इंसुलिन और अन्य कृत्रिम तरीकों से आगे बढ़ रहे हैं क्योंकि हम अपनी जीवन शैली को बदलने का प्रयास नहीं करना चाहते हैं ।
औषधीय मशरूम : औषधीय मशरूम जैसे रीशी मशरूम और चागा मशरूम जो पूरी दुनिया में मौजूद हैं। लगभग हर देश में मशरूम का कुछ किसमे होती  है जिसे लंबे समय तक हार्मोन को संतुलित करने के लिए दवाओं के रूप में उपयोग किया जाता है लेकिन आप मशरूम को पेटेंट नहीं कर सकते हैं और ना ही किसी दावा की दुकान पर बेच सकते हैं। इसलिए, मशरूम के लिए उद्योग में कोई पैसा नहीं है और यही वजह है कि इसमें कोई शोध नहीं है। फिर भी हमारे पूर्वजों ने मशरूम, अश्वगंध और इतने सारे प्राकृतिक जड़ी बूटियों का उपयोग करके खुद को ठीक किया।
 श्वास : कभी-कभी आप उदास हो सकते हैं। वास्तविक डिप्रेशन के लिए वास्तविक उपचार की आवश्यकता हो सकती है, लेकिन हमें यह भी समझना होगा कि इसमें आपके हार्मोन शामिल हैं और यदि आप अपनी उपचार योजना में हार्मोन का ख्याल नही दे रहे हैं तो आप लगातार एक दवा के बाद एक दवा पर निर्भर हो जोएंगे। तो, जब भावनात्मक असंतुलन की बात करते हैं तो आपकी सांस बहुत ही महत्व रखती है। आपका गहरी सांस लेना आपके नियंत्रण में है। यह सस्ता और मुफ़्त तरीका है लेकिन हम इसे रोज़ाना  करने के लिए बहुत आलसपान करते हैं। परंतु, जब आप इसे सही तरीके से करते हैं तो श्वास हर दिन आपके हार्मोन को संतुलित करने मे मदद करता है। यदि आप तनावग्रस्त हैं कोर्टिसोल ऊपर जाता है। एक चीज जो कोर्टिसोल को तुरंत नीचे ला सकती है वह आपके एंटीड्रिप्रेसेंट, तनाव ड्रग्स, अल्कोहल, धूम्रपान, ड्रग्स नही है बल्कि आपकी गहरी सांस है। आप एक गहरी सांस लेते हैं और कोर्टिसोल नीचे आता है। आप छह सांस लेते हैं और यह और नीचे आ जाता है। यह इतना सरल है। यही कारण है कि आप किसी भी दुर्घटनाग्रस्त पीड़ित को देखते हैं इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि दुर्घटना पीड़ित का किस तरह इलाज किया जाएगा, मानव शरीर में संतुलन मे लाने के लिए उसे तुरंत ऑक्सीजन मुखौटा लगाया जाता है। सांस, ऑक्सीजन, प्राण और फिर भी यह इस ग्रह पर सबसे दुर्व्यवहार सस्ती वस्तु है।
आवश्यक तेल :  लैवेंडर, सौंफ़, चंदन और थाइम आवश्यक तेलों जैसे तेल; आप विसारक और गंध में प्रकाश डाल सकते हैं।कुछ लोग इसे निगलते हैं और अपने हार्मोन्स का संतुलन बनाए रखते है।बहुत सी महिलाएं शाम प्राइमरोस तेल लेती हैं। आपकी दवा, उपचार और आपकी सुरक्षा में आवश्यक तेलों की अपनी जगह होती है जो अपना कार्य संपूर्ण तरीके से निभाती हैं
प्रोबायोटिक्स : प्रोबियोटिक भी हैं जो आपके सूक्ष्मजीव में सूक्ष्म वनस्पति को संतुलित करने में आपकी मदद कर सकते हैं। हम सभी के पेट मे अच्छे बैक्टीरिया की तुलना में खराब बैक्टीरिया अधिक है। हमें इस संतुलन को ठीक करने की जरूरत है क्योंकि आपके अधिकांश स्वास्थ्य और प्रतिरक्षा आपके आंत में शुरू होती है। इसका मतलब है कि हमारा ध्यान हमारी आंत के स्वस्थ की ओर अधिक होना चाहिए।
नींद : जब आप सोते हैं तो सभी हार्मोनल संतुलन होता है। इसीलिए यदि आप कम सोते हैं तो अगले दिन आपको कई प्रकार की लालसा होगी, चिड़चिड़ाहट होगी ओर निराशा महसूस करेंगे
यह लालसा – लेप्टिन और घ्रेलीन हार्मोन द्वारा संचालित होती हैं। लेप्टीन जो आपकी तृप्ति हार्मोन है; यदि वह कम हो जाएगा  तो आपको लगातार भूख लगती रहेगी और घ्रेलीन जोकि एक भूख हार्मोन है बढ़ता जाएगा। जिन लोगों की नींद कम होती है उनमे लेप्टीन हर्मोन की मात्रा कम होती है ओर घ्रेलीन की अधिक। इसलिए आप अपनी इच्छाओं को नियंत्रित नहीं कर पाते। यही कारण है कि जब भी कोई आपको अपनी इच्छाओं को नियंत्रित करने के लिए सलाह देता है और जिससे आप अपना वजन कम सकें – तो यह काम नही करती। इसलिए आपको अपने शरीर मे हार्मोन्स के संतुलन को बनाए रखना पड़ेगा जिससे आपकी इच्छाएं स्वाभाविक रूप नियंत्रण मे आ जाएँ
आप इच्छाशक्ति का उपयोग इस से लड़ने के लिए नहीं कर सकते क्योंकि इच्छाशक्ति की एक सीमा होती है। इच्छाशक्ति द्वारा आप शायद एक या दो सप्ताह तक जीत सकते हैं परंतु उसके बाद आप निराश और उदास हो जाएंगे और फिर आपक अपनी इच्छाशक्ति के खिलाफ ज़्यादा खाना खाने लांगेंगे।
मानव शरीर बहुत ही बुद्धिमान है और जानता है कि अपने हार्मोन को कैसे संतुलित किया जाए। कोई चिकित्सक, पोषण विशेषज्ञ, चिकित्सक या वैज्ञानिक एसा नहीं हैं जो अभी तक समझ सका हो कि  हार्मोन एक दूसरे के साथ कैसे संवाद करते हैं। इसलिए एक समय में एक लक्षण का इलाज करने के लिए केवल एक दवा का उपयोग करें।

From a pimple to cancer, our You Care Wellness Program helps you find a way


Talk to our integrative team of experts today 


18001020253 

info@lukecoutinho.com 

Share this post

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to All Articles